बिहार में लोगों ने कोरोना को देवी बनाया, महिलाएं पूजा करके चढ़ा रहीं लड्‌डू और लौंग

कोरोना वायरस को लेकर पूरे देश में दहशत का महौल है। डर के कारण लोग कई तरह की सावधानी बरत रहे हैं। महामारी के इस दौर में कई तरह के अंधविश्वास भी जन्म लेने लगे हैं। बिहार और झारखंड में महिलाओं ने कोरोना को देवी का रूप मानकर उसकी पूजा शुरू कर दी है। उनका मानना है कि कोरोना माता नाराज हैं, जो पूजा करने के बाद वापस चली जाएंगी। इससे पहले झारखंड के जमशेदपुर, गढ़वा यूपी के गाजीपुर और बलिया से भी इस तस्वीरें सामने आई थीं।

मुजफ्फरपुर: महंत के समझाने पर भी नहीं मानीं महिलाएं

शुक्रवार को ज्येष्ठ पूर्णिमा थी। इस मौके पर महिलाएं मुजफ्फरपुर के ब्रह्मपुरा स्थित बाबा सर्वेश्वरनाथ मंदिर में कोरोना देवी की पूजा करने पहुंच गईं। महंथ पं. संजय ओझा ने महिलाओं को समझाने की कोशिश की, लेकिन वो नहीं मानीं। कुछ महिलाओं ने बूढ़ी गंडक नदी के तट पर भी पूजा-अर्चना की।

बक्सर: नौ लड्‌डू, नौ लौंग का भोग लगाया

 

यहां भी ज्येष्ठ पूर्णिमा पर महिलाएं कोरोना देवी की पूजा करने पहुंचीं। महिलाओं ने कोरोना माता को नौ लड्‌डू, नौ लौंग का भोग लगाया और कहा कि कोरोना माई नाराज हैं, इसलिए ही महामारी का प्रकोप बढ़ता जा रहा है। उन्हें प्रसन्न करने के लिए पूजा की जा रही है। ताकि उनका गुस्सा कम हो जाए और वे हमसब पर कृपा कर वापस चली जाएं।

वाट्सएप पर फैली एक अफवाह, महिलाओं ने शुरू की पूजा

दरअसल कोरोना माता की अफवाह सोशल मीडिया के जरिए फैलाई गई थी। लोगों ने वाट्सएप पर कुछ वीडियो शेयर किए थे। पूजा कर रही गुड़िया और सोनी देवी ने बताया कि कोरोना चेचक की तरह ही माता का रूप है। पूजा-पाठ करने के बाद ये वापस चली जाएंगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *