बिहार चुनाव में इस्तेमाल होगा ईवीएम का लेटेस्ट वर्जन एम 3, दावा- इसमें छेड़छाड़ नामुमकिन- स्क्रू भी खोला तो बंद हो जाएगी मशीन

 बिहार में इस साल विधानसभा चुनाव हैं। इसकी तैयारियां शुरू हो गई हैं। सोमवार को राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने सभी 38 जिलों के एसपी के साथ बैठक की। बैठक में उन्होंने आपराधिक मामलों की तहकीकात जल्द खत्म करने के आदेश दिए। मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने सभी डीएम को अलग से एक आदेश में बूथ वेरिफिकेशन तेजी से करने को कहा है।

एक अहम फैसला ईवीएम को लेकर हुआ। आयोग ने फैसला किया है कि बिहार विधानसभा चुनाव में ईवीएम का लेटेस्ट वर्जन इस्तेमाल किया जाएगा। राज्य में अब तक ईवीएम के एम1 और एम2 वर्जन ही इस्तेमाल किए जाते रहे हैं। इस बार लेटेस्ट वर्जन एम3 का उपयोग होगा। एम3 ईवीएम का इस्तेमाल उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में किया जा चुका है। आयोग के निर्देश पर जल्द ही राज्य के बाहर से ईवीएम मंगाए जाने की कार्यवाही भी शुरू हो जाएगी।

एम 3 में 384 प्रत्याशियों की जानकारी होगी

एम 3 इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन की थर्ड जनरेशन है। इसमें 24 बैलट यूनिट और 384 प्रत्याशियों की जानकारी होगी। इसके पहले के दो वर्जन में  सिर्फ चार बैलेट यूनिट और 64 प्रत्याशियों की जानकारी ही स्टोर की जा सकती थी।  एम3 के चिप को सिर्फ एक बार प्रोग्राम किया जा सकता है। चिप के सॉफ्टवेयर कोड को पढ़ा नहीं जा सकता।

मशीन से छेड़छाड़ करने पर हो जाएगी बंद

इस ईवीएम को इंटरनेट या किसी भी नेटवर्क से कंट्रोल नहीं किया जा सकता। यदि ईवीएम से छेड़छाड़ होगी। कोई स्क्रू भी खोलने की कोशिश करेगा तो यह बंद हो जाएगी। इतना ही नहीं छेड़छाड़ करने वाले की तस्वीर भी यह कैप्चर कर लेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *