बारिश के बाद जहानाबाद शहरवासियों की बढ़ी परेशानी, अंडरपास में बह रहा 3 फीट पानी

मानसून के दस्तक देने के साथ पिछले लगभग चार-पांच दिनों से रोज पड़ रही मानसूनी फुहारों ने शहरवासियों की मुश्किलें बढ़ा दी है। हालांकि मुख्य सड़क व कई मुहल्लों में गलियों के पक्कीकरण होने से परेशानी नहीं है लेकिन बाजार की सड़कों को पिछले ग्यारह वर्षों से मरम्मत नहीं होने से सड़कों पर कीचड़ पसर रहा है। कुछ मुहल्लों में गलियों के पक्कीकरण नहीं होने से बारिश होते ही परेशानियां बढ़ जा रही हैं। हालांकि पिछले तकरीबन एक महीने से शहर में नालों की सफाई का काम तेज गति से हो रहा है।

लेकिन फिर भी कई इलाकों में पानी की निकासी की समस्या पूरी तरह से खत्म नहीं हुई है। शहर के राजाबाजार स्थित अंडरपास में इन दिनों बारिश होने से तीन फीट तक पानी हमेशा जमा रह रहा है। इससे उस प्रमुख रास्ते से वाहनों के आवागमन से लेकर आम लोगों को पैदल आने जाने में भी भारी कठिनाईयों का सामना करना पड़ रहा है।
लंबे अरसे से सड़कों की मरम्मति या पुर्ननिर्माण नहीं होने से मेन रोड के ऊंटा मोड़, फिदा हुसैन रोड से एरोड्रम तक की सड़क कीचड़ से सन गया है। बाजार के मेन रोड सहित कई अन्य जगह पर भी पानी की निकासी ठीक से नहीं होने से लोगों को आवागमन में काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। राजा बाजार, सर गणेश दत्त नगर , दौलतपुर रोड, विशुनगंज, बिजली कॉलोनी , गांधीनगर रामगढ़ ,आदर्श नगर, गौतम बुध नगर समेत कई जगहों पर बारिश होने के बाद नाली का पानी का बहाव मेन रास्ते पर हो रहा है।
मोहल्लेवासियों ने बताया कि नाली की समस्या के समाधान के लिए कई बार स्थानीय पार्षदों का ध्यान आकर्षित कराया लेकिन स्थाई समाधान नहीं निकाला जा रहा है। विशुनगंज मोहल्ला से पूरब की ओर जाने वाली नाला का पानी फिदा हुसैन मोड़ से पश्चिम की ओर ही आती है। इसी प्रकार के स्थिति प्राचीन देवी मंदिर के पीछे मोहल्लों की है। यहां 22 लाख की लागत से नाला बन रहा है लेकिन ढाल ठीक नहीं होने से समाधान नहीं हो पाया।
मानसून के मिजाज से किसानों के चेहरे पर छायी हरियाली
इस साल समय से मानसून के दस्तक देने से किसान अग्रिम रुप से अपने काम में जुट गए हैं। गुरुवार की दोपहर हुई बारिश के बाद धान के बीचड़ा डालने के काम में अचानक तेजी आ गई है। किसान खेतों को बिचड़ो के लिए गांव गांव सक्रिय हो गए हैं। जून के मध्य में पिछले कई सालों के बाद खेतों में इस तरह की सक्रियता दिख रही हैं अगर एक सप्ताह मौसम का मिजाज इसी तरह बना रहा तो रोहिणी नक्षत्र के आरंभ में बिचड़ा डालने वाले किसान रोपनी का आगाज भी कर देंगे। अग्रिम मानसून के बाद की फसल की उपज बेहतर होना तय माना जाता है।

शहर की सफाई व्यवस्था को लेकर नगर परिषद के द्वारा पिछले एक महीने से लगातार युद्ध स्तर पर काम किया जा रहा है। कई दशकों पुराने व जाम नालों की सफाई कराई जा चुकी है। राजा बाजार एवं वार्ड नंबर 29 में जेसीबी एवं मानव बल लगाकर नालाें की सफाई कराई गई है। नप को जहां से भी सूचना मिलती है वहां सफाई कर्मी एवं जेसीबी भेजकर जाम नालों की सफाई कराई जा रही है। इस साल पहले की तुलना में कई बड़े व जटिल नालों की सफाई हुई है। सफाई एजेंसियों को लगातार निर्देश दिए जा रहे हैं। अधिकांश जगहों पर पानी की निकासी सुगम हुई है। -मुकेश कुमार, कार्यपालक पदाधिकारी, नगर परिषद।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *