जहानाबाद : जबरन फीस की वसूली करने पर होगी कार्रवाई

लॉकडाउन के दौरान अभिभावकों पर फीस के लिए दबाव बनाने वाले स्कूल प्रबंधन पर कड़ी कानूनी कार्रवाई की जाएगी। दरअसल लॉकडाउन के बाद अब स्कूल खुलते ही कई स्कूल प्रबंधनों ने अभिभावकों पर फीस के लिए दबाव बनाना शुरू कर दिया है। जिला शिक्षा पदाधिकारी राम सागर सिंह ने शिकायतों के अालोक में सभी निजी स्कूल संचालकों को इस आशय का पत्र जारी कर कड़ा निर्देश दिया है। दरअसल इस प्रकार की शिकायतें आ रही थीं कि अभिभावकों पर फीस जमा करने का दबाव बनाया जा रहा है। लॉकडाउन में स्कूल बंद हैं, इसके बावजूद लैब, स्मार्ट क्लास आदि का शुल्क भी जमा करने को कहा जा रहा है। कई अभिभावकों ने इस संबंध में शिकायत भी दर्ज कराई है। जिला शिक्षा पदाधिकारी (डीईओ) राम सागर प्रसाद सिंह ने पत्र जारी कर स्पष्ट निर्देश दिया है कि किसी भी प्रकार का दबाव बनाए जाने की शिकायत मिलने पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

ऑनलाइन के नाम पर जमकर हुई मनमानी
शहर के एक प्रसिद्ध स्कूल के कई अभिभावकों ने कहा कि लॉकडाउन में पढ़ाई नहीं हुई। ऑनलाइन पढ़ाई के नाम खानापूर्ति की गई है। इसके अलावा मार्च के बाद अप्रैल महीने से बच्चों की फीस में दो सौ से ज्यादा का इजाफा भी कर दिया है। सालाना फीस में ढाई से साढ़े तीन हजार रुपये के आसपास बढ़ोत्तरी की गई है। इस तरह से पढ़ाई नहीं होने के बावजूद अभिभावकों पर दोहरी मार पड़ रही है। इसे हर लोग अनुचित बता रहे हैं।

मैसेज और मेल से बना रहे दबाव
शहर के कुछ स्कूलों की ओर से फीस के लिए अभिभावकों पर लगातार दबाव बनाया जा रहा है। निजी स्कूल एसएमएस और मेले के जरिए अभिभावकों को फीस जमा करने को कह रहे हैं। स्कूल प्रबंधन का तर्क है कि फीस जमा नहीं होने के कारण शिक्षकों और कर्मियाें के वेतन भुगतान में मुश्किल हो रही है। विभागीय आदेश में सभी स्कूलों को यह भी कहा गया था कि यदि कोई अभिभावक एक महीने की ट्यूशन फीस भी जमा करने में असमर्थ है तो उस पर कोई दबाव नहीं बनाया जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *