कचरे से उठ रहा धुआं, हवा में फैला कार्बन (दरधा पुल के समीप कूड़े का अंबार)

जहानाबाद । नगर परिषद कुड़े कचरे को डंपिग जोन में व्यवस्थित करने की बात करती है। इसे लेकर डोर टु डोर कुड़े का उठाव भी किया जाता है।लेकिन नप के इस व्यवस्था के समानांतर लोग अपना डंपिग जोन भी संचालित कर रखे हैं। जिससे एक ओर जहां प्रदूषण की समस्या बढ़ रही है, वहीं दूसरी ओर कुड़े के ढेर से उठाते धुएं से अगलगी की संभावना बनी रहती है। पटना- गया राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या-83 पर अवस्थित दरधा पुल के समीप कूड़े का अंबार लगा हुआ है। तकरीबन 50 मीटर की दूरी पर आवासीय इलाका भी है। इन कुड़े से अक्सर दुर्गंध के साथ-साथ जहरीला धुंआ निकलता रहता है। इस रास्ते से आने जाने वाले लोग तो नाक पर रुमाल रखकर पार हो जाते हैं। लेकिन जिन लोगों का स्थाई तौर पर इसके आसपास निवास स्थान तथा व्यवसायिक प्रतिष्ठान है उन्हें हमेशा ही इसका कोप भाजन बनना पड़ता है। कूड़े के ढेर में ई- कचरे भी मिला रहता है। परिणामस्वरूप यदि इस दिशा में पहल नहीं किया गया तो लोग कई बीमारियों से आक्रांत भी हो सकते हैं। कमोवेश इसी तरह की स्थिति जहानाबाद – घोसी पथ पर दरधा नदी के समीप भी कायम रह रहा है। दरअसल कूड़े कचरे के उठाव को लेकर नगर परिषद के द्वारा किए गए इंतजाम के बावजूद लोग इधर-उधर फेंकने से बाज नहीं आ रहे हैं। जिसके कारण आए दिन समस्या बढ़ती जा रही है। शहर में संचालित नर्सिंग होम के मेडिकल कचरे का यहां निस्तारण नहीं होता है।स्वास्थ्य विभाग द्वारा लगातार इसे अनदेखी की जा रही है। जिसके कारण नर्सिंग होम संचालकों के हौसले बुलंद होते जा रहे हैं। नगर परिषद द्वारा भी इस मामले को लेकर सख्ती नहीं वरती जा रही है।फिलहाल दरघा नदी का तटीय इलाका अघोषित रूप से डंपिग जोन बना हुआ है। शहर को स्वच्छ तथा प्रदूषण मुक्त रखने की मुहिम में यह व्यवस्था बडा बाधक बना हुआ है। क्या कहते हैं नप के कार्यपालक पदाधिकारी शहर में नियमित रूप से कूड़े कचरे का उठाव किया जा रहा है। हमलोग ऐसे प्रतिष्ठानों को चिन्हित कर रहे हैं जिसके द्वारा इस तरह कचरे को फेंका जा रहा है। ऐसे लोगों के विरुद्ध सख्त कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *