जहानाबाद Town : लिफ्टिंग व शिफ्टिंग तकनीक से ऊंचे हो रहे पुराने मकान

यदि आपके मकान के सामने सड़क की ऊंचाई अधिक हो जाती है और मकान नीचे हो गया तो बरसात का गंदा या नाली का पानी मकान में भरने की चिंता से त्रस्त हो जाते हैं लेकिन अब नई तकनीक आपको इस तरह की परेशानियों से मुक्ति दिलाने में सक्षम है। भवन निर्माण में लगे तकनीकी विशेषज्ञ लिफ्टिंग एंड शिफ्टिंग तकनीक के माध्यम से आप के मकान या ऑफिस को फिर से सड़क से मनचाहे ऊंचाई प्रदान करा सकते हैं या अन्यत्र आसपास मकान को कहीं शिफ्ट भी करा सकते हैं। शहर के वार्ड संख्या 32 के द्वारिकापुरम मोहल्ले में घोसी मोड़-बरबट्टा सड़क मार्ग से दो सौ मीटर दक्षिण स्वास्थ्य विभाग में कार्यरत दांगी अरविन्द कुमार के एक मंजिला मकान की ऊंचाई को इस अत्याधुनिक तकनीक के माध्यम तीन फीट बढ़ाया जा रहा है। इस लिफ्टिंग एवं शिफ्टिंग की तकनीक से पक्के निर्माण की ऊंचाई बढ़ाते लोग उत्सुकतावश प्रतिदिन लोग देखने आ रहे हैं।

नींव में लगाए एग सौ जैक
उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद की जेएमडी हाउस लिफ्टिंग एंड शिफ्टिंग कम्पनी के तकनीकी जानकार सुनील शुक्ला ने बताया कि इस एक मंजिला मकान को तीन फीट ऊंचा करने के लिए पहले चारों तरफ सफाई कर पुरानी नींव को निकाला गया। इसके बाद बीच-बीच में जैक लगाए गए और फिर लोहे के एंगल वैल्डिंग कर नीचे की तरफ से पुरे मकान को अभी दो फिट उठा कर नीचे से एक फिट दीवार की जोड़ाई किया जा रहा है।इसके बाद मकान को और ऊपर उठाया जायेगा।इस कार्य को पुरा करने में लगभग दस से पन्द्रह दिन समय लग जायेगा।श्री शुक्ला ने बताया कि इस मकान में नीचे तीन कमरे,एक रसोई व शौचालय वगैरह है और दूसरी मंजिल पर एक कमरा है। यह पूरा निर्माण कार्य लगभग सात सौ स्क्वायर फीट में है।

सूबे में पहला हाउस लिफ्टिंग तकनीक से शुरू हुआ कार्य
कंपनी के तकनीकी विशेषज्ञ सुनील शुक्ला ने बताया कि बिहार में हाउस लिफ्टिंग का यह पहला काम हो रहा है। उन्होंने बताया कि उनकी कंपनी द्वारा अब तक देश के विभिन्न हिस्सों में हजारों मकानों का लिफ्टिंग एवं दो सौ मकानों का सफलतापूर्वक शिफ्टिंग का कार्य किया जा चुका है। फिलहाल देश के विभिन्न राज्यों के सात स्थानों पर कार्य चल रहा है। उन्होंने बताया कि गड्ढे में धंसे मकानों को ऊंचा करने या दुसरे स्थान पर शिफ्ट करने में मकान तोड़कर नये सिरे से बनाने के लागत का बीस से पच्चीस फीसदी ही खर्च होता है।

असाधारण दिख रहे कार्य को देखने के लिए प्रतिदिन आ रहे दर्जनों लोग
बिजली विभाग के सिविल शाखा में जूनियर इंजीनियर के पद पर कार्यरत मकान मालिक के पुत्र इंजीनियर राहुल राज ने बताया कि जहानाबाद-बरबट्टा सड़क मार्ग से दक्षिण द्वारिकापुरम मोहल्ले में स्थित उनका एक मंजिला आवासीय मकान है। नियमित अंतराल में सड़क निर्माण होने से आज सड़क उनकी मकान से ऊंची होने एवं आसपास ऊंचा कर बनाये गए नये मकानों से उनका मकान नीचा हो गया है। इससे न केवल बरसाती पानी की निकासी की समस्या होने लगी है,बल्कि रोज गंदे पानी को निकालने की परेशानी से भी वे जूझ रहे हैं। ऐसे में उन्होंने इस अत्याधुनिक तकनीक से अपने एक मंजिला मकान की ऊंचाई बढ़ाने का निर्णय लिया।इस लिफ्टिंग एवं शिफ्टिंग की तकनीक से पक्के निर्माण की ऊंचाई बढ़ाते लोग उत्सुकतावश प्रतिदिन दर्जनों लोग देखने आ रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *