जहानाबाद1: 0 लोग जुटेंगे तभी दिया जाएगा टीका

वैक्सीन बर्बाद होने से बचाने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने उठाया कदम

जिले में कोरोना वैक्सीन के सुरक्षित उपयोग को लेकर स्वास्थ्य प्रशासन काफी सजग है। यहां कोविड-19 टीकाकरण की बर्बादी नहीं हो, इसको लेकर स्वास्थ्य प्रशासन की ओर से एक रणनीति बनाई गई है कि जब तक किसी भी केंद्र पर 10 लोग टीका लेने वाले नहीं उपलब्ध होते हैं तब तक टीका का वायल खोला ही नहीं जा रहा है। शनिवार को सदर अस्पताल में जब पड़ताल की गई तो वहां मौजूद स्वास्थ्य विभाग के कर्मी कोविड-19 टीकाकरण केंद्र में रजिस्ट्रेशन कर रही थी। उनसे पूछे जाने पर उन्होंने स्पष्ट रूप से बताया कि जब तक 10 लोगों की लिस्ट नहीं आ जाती टीका लगाने वाले लोगों का तब तक वैक्सीन को नहीं खोला जाता है । ऐसा इसलिए किया जाता है कि वैक्सीन बर्बाद न हो।

प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों और रेफरल अस्पतालों, जहां कोविड-19 टीकाकरण केंद्र बनाया गया है वहां रजिस्ट्रेशन के बाद कई जगह रजिस्टर मेंटेन की जाती है। जब तक 10 लोग नहीं हो जाते तब तक वैक्सीन वायल को नहीं खोला जाता है। उधर इस संबंध में डीआईओ डॉ विनय कृष्ण ने बताया कि कोविड-19 का वैक्सीन बर्बाद नहीं होता है। वे खुद इसकी मॉनिटरिंग करते हैं। जहां-जहां कोविड-19 टीकाकरण केंद्र बनाया गया है वहां पहले से ही स्वास्थ्य कर्मियों को निर्देश दिया गया है कि वैक्सीन किसी भी कीमत पर बर्बाद नहीं होनी चाहिए। जब तक 10 लोग नहीं पहुंच जाते, वैक्सीन लेने वाले तब तक वैक्सीन को नहीं खोलना है। वैसे सदर अस्पताल में प्रतिदिन करीब 25 से 30 वैक्सीन वायल की खपत है। वहीं सदर अस्पताल में कोविड-19 टीकाकरण केंद्र जो बनाए गए हैं वह पूरी तरह से सुरक्षित रखा गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *