जहानाबाद: सिविल सर्जन और डाॅक्टर, बड़े अधिकारी व नेता क्यों लेते वैक्सीन अगर टीका में शक होता तो

जिलाधिकारी नवीन कुमार ने जिले से कोरोना के खात्मे के लिए लोगों से वैक्सीन लेने का आह्वान किया है। टीका आपके द्वारा कार्यक्रम की गति काे बढ़ाने के लिए उन्होंने बुधवार को एक बार फिर खुद मोर्चा संभाला और पश्चिमी काको पंचायत के मल्लिक टोला, सैयाद टोला, बाजार टोला सहित कई गावों में डोर टू डोर अभियान चलाकर ग्रामीणों से सीधा संवाद कर लोगों से टीका को लेकर मन में व्याप्त भ्रांतियों को दूर करने का भरसक प्रयास किया। इस काम में उन्हें कामयाबी भी मिली। पहले से टीका को लेकर कई सशंकित ग्रामीण वैक्सीन लेने के लिए हामी भरी।

डीएम के साथ कई स्थानीय पंचायत जन प्रतिनिधि व सामाजिक कार्यकर्ता भी उनका साथ दे रहे थे। पंचायत में डोर टू डोर जाकर लोगों से संवाद स्थापित कर उन्हें वैक्सीनेशन के लिए जागरूक किया। उन्होंने पंचायत मे चल रहे टीकाकरण कैंप का भी निरीक्षण किया। उन्होंने गावों में लोगों के दरवाजे पर जाकर उन्हें टीका से कोरोना से होने वाले मजबूत बचाव के बारे में विस्तार से जानकारियां दी। उन्होंने ग्रामीणों को बताया कि अब तक देश व दुनिया में लगभग पचास करोड़ से अधिक लोग टीका ले चुके हैं। उन्होंने बताया कि टीका लेने वाले लोगों में संक्रमण का खतरा लगभग न के बराबर होता है। ऐसे लोगों को संक्रमित होने पर भी जान का खतरा नहीं होता।

सांसद और विधायकों ने भी ले लिया है टीका, आप भी इसके लिए आएं आगे
जिलाधिकारी ने ग्रामीणों से कहा कि उन्होंने खुद व सभी सरकारी अधिकारी व कर्मचारियों ने टीका लिया है जिसके बाद से कुछेक को छोड़ किसी को संक्रमण नहीं हुआ। जिले के सिविल सर्जन सहित सभी डाक्टरों के अलावा सांसद व विधायकों तक ने टीका ले लिया है। उन्होंने ग्रामीणों से कहा कि अगर टीका को लेकर जरा भी शंका होती तो बड़े-बड़े प्रभावशाली लोग टीका नहीं लेते। सभी लोग बेफिक्र होकर टीका लगाएं। जिला प्रशासन उनके हित में ही उन्हें टीका लगाने को कह रहा है। उन्होंने ग्रामीणों को बताया कि कोरोना संक्रमण से बचने का एकमात्र प्रभावी और स्थाई ढाल टीका ही है। इसलिए जिला प्रशासन द्वारा ग्रामीणों की सहूलियत के लिए उनके घर तक टीकाकरण कैंप का आयोजन किया जा रहा है ताकि सभी लोग आसानी से शत-प्रतिशत टीका लेकर स्वयं तथा अपने परिजनों को कोरोना के खतरे से सुरक्षित कर सकें।

अफवाहों पर ध्यान नहीं दें लोग, जान को सुरक्षित रखने के लिए टीकाकरण उपाय
लोगों से संवाद के दौरान डीएम ने कहा कि टीका पूरी तरह से वैज्ञानिकाें के द्वारा परखा व प्रमाणित संक्रमण से बचने का एक मजबूत सुरक्षा कवच है। ऐसे में किसी को मन में किसी प्रकार की भ्रांति रखने की जरूरत नहीं है। हर किसी को अपने नजदीकी केन्द्र पर जाकर टीका लेने की जरूरत है। डीएम ने कहा कि टीका को लेकर कई असामाजिक तत्व व ग्रुप बिना सिर पैर के तरह-तरह के अफवाह फैला रहे हैं। इससे सावधान रहने की जरूरत है। अफवाह पूरी तरह से बेतुका व निराधार हैं। इस पर किसी को ध्यान देने की जरूरत नहीं है।

उन्होंने कहा कि टीका की जीवन रक्षक क्षमता का प्रमाण है कि जिला प्रशासन के सभी फ्रंटलाइन वर्कर्स, स्वास्थ्य विभाग के हेल्थ वर्कर्स एवं क्षेत्र भ्रमण कर रहे कर्मियों को कोरोना संक्रमित मरीजों को स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध कराने के दौरान संक्रमण से बचाए रखा। इन सभी लोगों ने फरवरी से मार्च महीने तक कोरोना टीका का दोनों डोज लगा लिया था, जिसके परिणामस्वरूप ये संक्रमण से स्वयं को सुरक्षित कर पाए।

जनप्रतिनिधियों से भ्रांतियों को दूर करने में मांगा सहयोग
डीएम ने जिले के सभी पंचायत जन प्रतिनिधियों, सामाजिक कार्यकर्ताओं व प्रबुद्ध लोगों से लोगों को वैक्सीन को लेकर जागरूक करने की अपील की। उन्होंने सभी स्थानीय जनप्रतिनिधियों से व्यापक जन हित में आगे आकर लोगों को टीका के लिए जागरूक करने की अपील करते हुए कहा कि अगर कुछ बेतुके भ्रांतियों की वजह से लोग टीका नहीं लेते तो यह पूरे समाज के जिम्मेदार लोगों के लिए अफसोस जनक है। उन्होंने जन प्रतिनिधियों से अपने इलाकों में कुछ लोगों में फैली गलतफहमियां,अफवाह या भ्रांतियाें को दूर करने में सहयोग की अपील करते हुए कहा कि आज हर जिम्मेदार लोगों को खुद को साबित करने का माैका है। उन्होंने समाज में टीका को ले फैले भ्रांतियों का जोरदार खंडन करते हुए अधिक से अधिक लोगों को पंचायतों में लगाए गये टीकाकरण कैंप में आकर टीका लगवाने को प्रेरित किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *