बिहार में छह जुलाई के बाद खुलने लगेंगे स्‍कूल-कालेज; विद्यार्थी, अभिभावक व शिक्षक खुश

बिहार में अनलॉक (Bihar Unlock) के अगले चरण के साथ शिक्षण संस्‍थाओं के क्रमवार खुलने कर उम्‍मीद जगी है। शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी (Education Minister Vijay Kumar Chaudhary)  ने कहा है कि अगर कोरोनावायरस संक्रमण निसंत्रण में रहा तो सरकार शर्तों के साथ सरकारी एवं निजी स्कूल-कालेज खोल देगी। शिक्षा विभाग इसकी तैयारी में जुट गया है। सरकार की इस घोषणा ने राज्‍य के विद्यार्थियों व अभिभावकों के साथ-साथ शिक्षण संस्‍थाओं में भी नई आशा का संचार किया है।

शिक्षा मंत्री ने क्‍या की घोषणा, जानिए

शिक्षा मंत्री विजय चौधरी ने कहा है कि छह जुलाई के बाद पहले चरण में विश्वविद्यालय और महाविद्यालय खोले जाएंगे। फिर दूसरे चरण में माध्यमिक एवं उच्च माध्यमिक विद्यालय (कक्षा 9वीं से 12वीं तक) एवं कोचिंग संस्‍थान तथा तीसरे चरण में प्राथमिक एवं मध्य विद्यालय (कक्षा एक से आठ तक) खोले जाएंगे। शिक्षण संस्थानों में ऑफलाइन पढ़ाई को लेकर शिक्षा विभाग विशेष गाइडलाइन जारी करेगा। एक दिन में केवल 50 फीसद विद्यार्थी ही अल्‍टरनेट दिन आ सकेंगे। परिसर को नियमित अंतराल पर सैनिटाइज कराना होगा। साथ ही शारीरिक दूरी का ध्‍यान रखना होगा। मास्‍क पहनना व सैनिटाइजर का उपयोग भी अनिवार्य है।

घोषणा से खुश हैं विद्याथी-अभिभावक व शिक्षक

स्‍कूल-कॉलेज खुलने की घोषणा से विद्यार्थियों में खुशी की लहर है। पटना के सेंट माइकेल हाइस्‍कूल की छात्राओं कृतिका व स्‍वाति को अब अपनी बाधित पढ़ाई के पटरी पर आने की उममीद है। पटना के डॉ. संजय कुमार व किरण सिंह सहित कई अभिभावकों ने इन दिनों जारी स्‍कूलों की ऑनलाइन पढ़ाई को लेकर कहा कि यह आूफलाइन पढ़ाई की जगह नहीं ले सकती है। स्‍कूल खुलने की घोषणा से वे भी खुश नजर आ रहे हैं। स्‍कूलों कोरोना काल में बंद कई स्‍कूलों के प्रबंधन ने शिक्षकों काे या तो नौकरी से हटा दिया या वेतन कम कर दिया है। कई शिक्षकों ने बताया कि स्‍कूल खुलने के साथ उनकी नौकरी फिर पटरी पर आ जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *