STET अभ्यर्थियों पर हुए लाठीचार्ज से गरमाई सियासत

बिहार STET-2019 के रिजल्ट को लेकर सैंकड़ों की संख्या में अभ्यर्थी मंगलवार को सड़कों पर उतर आए। रिजल्ट में धांधली का आरोप लेकर शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी के आवास के पास जमकर हंगामा किया। इसी बीच मौके पर पुलिस की टीम भी पहुंच गई और प्रदर्शन कर रहे अभ्यर्थियों पर पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया। लाठीचार्ज से अभ्यर्थी और भड़क गए और जमकर बवाल काटा। पुलिस ने 2 अभ्यर्थी को गिरफ्तार कर लिया।

STET पास अभ्यर्थी अपनी नियुक्ति को लेकर शिक्षा मंत्री से मिलना चाहते थे। सुबह साढ़े 10 बजे से ही ईको पार्क के पास सैंकड़ों की संख्या में अभ्यर्थी जमा हो गए। प्रदर्शन औऱ नारेबाजी करते हुए वे शिक्षा मंत्री की आवास की तरफ बढ़ रहे थे कि तभी पुलिस ने उन्हें रोक कर समझाने का प्रयास किया। लेकिन, वे नहीं माने, जिसके बाद पुलिस ने उन्हें खदेड़ना शुरू कर दिया। जब मामला कंट्रोल से बाहर हो गया तो पुलिस लाठियां बरसानी शुरू कर दी। इस दौरान पुलिस ने दो छात्रों को हिरासत में ले लिया। लाठीचार्ज के बाद ही स्थिति नियंत्रण में आई और छात्रों की भीड़ खत्म हुई। बाद में लाठीचार्ज से गुस्साए छात्रों ने बेली रोड को जाम करने की दुबारा कोशिश की तो पुलिस ने फिर उन्हें वहां से हटा दिया। फिलहाल स्थिति नियंत्रण में है। अभ्यर्थियों ने प्रशासन से परमिशन लेकर गर्दनीबाग में आमरण अनशन करने का ऐलान किया। अब अभ्यर्थी गर्दनीबाग में जमा हो रहे हैं।

बताया जाता है कि STET अभ्यर्थी तुरंत नियुक्ति चाहते हैं और सरकार उन्हें नियोजन प्रणाली के तहत ले जाना चाहती है। इसी को लेकर अभ्यर्थी भड़क गए हैं। तीन दिन पहले आक्रोशित अभ्यर्थियों ने बिहार बोर्ड ऑफिस का गेट तोड़ डाला था। कार्यालय पर जमकर नारेबाजी की थी। बाद में पुलिस ने किसी तरह छात्र नेताओं को समझा-बुझाकर मामले को शांत कराया था। परीक्षा में मेरिट लिस्ट की गड़बड़ी को लेकर वे लगातार विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।

अभ्यर्थी किसी बहकावे में ना आएं, गुमराह ना होंः शिक्षा मंत्री

इधर, STET अभ्यर्थियों के हंगामे पर शिक्षा मंत्री विजय चौधरी ने कहा कि अभ्यर्थियों को कुछ लोगों के द्वारा गुमराह किया जा रहा है। अभ्यर्थियों की पात्रता हमेशा बरकरार रहेगी । STET परीक्षा जितने लोगों ने पास की है, वे सभी लोग शिक्षक बहाली के लिए आवेदन करने के हकदार हैं। जो मेरिट लिस्ट निकाला गया था, वह पात्रता की मेरिट लिस्ट थी, नियुक्ति की मेरिट लिस्ट नहीं थी। अभ्यर्थी किसी बहकावे में ना आएं। किसी दूसरे कारण कोई विवाद पैदा ना करें। नियोजन इकाई की ओर से मेधा सूची बनाई जाएगी उसके बाद ही शिक्षकों की नियुक्ति होगी। 7वें चरण की नियुक्ति प्रक्रिया प्रारंभ होगी तब इन अभ्यर्थियों की नियुक्ति होगी।

STET अभ्यर्थियों पर हुए लाठीचार्ज से गरमाई सियासत

ईको पार्क के सामने STET अभ्यर्थियों पर हुए लाठीचार्ज पर सियासत शुरू हो गई है। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने बवाल के बाद सरकार को घेरा है। STET अभ्यर्थियों पर लाठीचार्ज पर उन्होंने कहा कि ये लाठी वाली सरकार है। अभ्यर्थियों के साथ तानाशाह रवैया अपना रही है। ये सरकार युवाओं का जीवन बर्बाद करने पर तुली हुई है। उन्होंने कहा की रिज़ल्ट में मलयाली हीरोइन को पास करा दिया गया। उसकी जांच भी नहीं कराई गई। जनता से नीतीश कुमार को कुछ लेना-देना नहीं है। वह चाहते हैं कि उनका शेष जीवन आराम से निकल जाए। युवा अपना अधिकार मांग रहे है और ये उनपर डंडे चला रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *