योग आसनों से दूर करें सिरदर्द की समस्या

सिरदर्द काफी आम है और यह परेशानी किसी भी उम्र के लोगों को प्रभावित कर सकती है। सिरदर्द हल्का या गंभीर हो सकता है। अगर आप लंबे समय से सिरदर्द से पीड़ित हैं, तो यह माइग्रेन का मामला हो सकता है। एक चिकित्सक से परामर्श करके इसका निदान करना चाहिए। क्या आप जानते हैं सिरदर्द एक या दो नहीं बल्कि 10 से ज्यादा प्रकार के होते हैं। इसमें तनाव प्रेरित सिरदर्द, एलर्जी या साइनस, हार्मोनल परिवर्तन, निर्जलीकरण, परिश्रम और उच्च रक्तचाप शामिल हैं।

डाइट, सोने के पैटर्न को बदलने और योग को अपनी दिनचर्या में शामिल करें। इसके अलावा कैफीन और शराब जैसी चीज़ों से दूरी बनाकर सिरदर्द की समस्या को काफी हद तक कम किया जा सकता है।

योग मन को शांत करता है। जहां आसन शारीरिक रूप से शरीर में ताकत, लचीलापन और जीवन शक्ति जोड़ता हैं, वहीं मानसिक स्वास्थ्य में भी सुधार लाता हैं। स्वस्थ आदतों को अपनाकर सिर दर्द से पूरी तरह बचने के लिए अपनी जीवनशैली को नियंत्रित कर सकते हैं। तनाव और चिंता को कम करने के लिए निम्नलिखित योग आसन और प्राणायाम तकनीकों का अभ्यास करें।

  1. सुखासन – हैप्पी पोज

दंडासन में दोनों पैरों को फैलाकर सीधे बैठ जाएं। बाएं पैर को मोड़कर दाहिनी जांघ के अंदर लगाएं। फिर दाएं पैर को मोड़कर बाईं जांघ के अंदर दबाएं। अपनी हथेलियों को घुटनों पर रखें और रीढ़ सीधी करके बैठ जाएं।

2. वज्रासन

घुटनों के बल बैठ जाएं  श्रोणि को एड़ी पर रखें और पैर की उंगलियों को बाहर की ओर इंगित करें। एड़ियों को एक दूसरे के करीब रखें। पंजों को एक-दूसरे के ऊपर न रखें, बल्कि दाएं और बाएं एक-दूसरे के बगल में होने चाहिए। हथेलियों को घुटनों के ऊपर रखें। पीठ को सीधा करें और आगे देखें।

3. मलासन

घुटनों को मोड़ें, अपने श्रोणि को नीचे करें और इसे एड़ी के ऊपर रखें। सुनिश्चित करें कि पैर फर्श पर सपाट रहें। हथेलियों को अपने पैरों के पास फर्श पर रख सकते हैं या प्रार्थना की मुद्रा में उन्हें अपनी छाती के सामने जोड़ सकते हैं। रीढ़ सीधी रहती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *