टीका लेकर भी हो सकते हैं कोविड संक्रमित, पर नहीं होगा जान को कोई खतरा

यदि कोविड से संक्रमित लोगों में ऐसे लोग भी शामिल हों, जिन्होंने वायरस से बचाव के लिए टीका लगवाया है, तो उनका यह सवाल करना जायज है कि टीकाकरण के बाद भी अगर संक्रमण होना ही है तो इसका आखिर औचित्य क्या है। ज्यादातर मामलों में, जिन्हें टीका लगाया गया था और वह कोविड-19 से संक्रमित हुए तो, उनकी मृत्यु नहीं हुई, उनमें गंभीर लक्षण विकसित नहीं हुए और उन्हें अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता नहीं थी।

बड़ी उम्र वाले बिना टीका लगवाए आस्ट्रेलियाई लोगों के लिए, कोविड से मरने की आशंका अधिक है। जो लोग अपनी उम्र के 80 के दशक में है और उन्होंने टीका नहीं लगवाया है तो कोविड से संक्रमित होने पर, उनमें से लगभग 32% की मौत हो सकती है। 70 के दशक में लोगों के लिए, यह लगभग 14% है। (60 के दशक के बिना वैक्सीन वाले लोगों के लिए यह लगभग 3% तक गिर जाता है। और 50 से कम उम्र के लिए, यह 1% से कम है।) अच्छी खबर यह है कि फाइजर और एस्ट्राजेनेका दोनों ही गंभीर बीमारी और कोविड-19 से मृत्यु को रोकने में बहुत प्रभावी हैं, यहां तक ​​कि अधिक खतरनाक डेल्टा स्ट्रेन से भी।

तो हमारे टीके कितने प्रभावी हैं?
ब्रिटेन के प्रारंभिक डेटा से पता चलता है कि फाइजर या एस्ट्राजेनेका की पहली खुराक लेने के बाद, आपके वायरस के डेल्टा संस्करण से संक्रमित होने की आशंका एक गैर-टीकाकृत व्यक्ति की तुलना में 33% कम हैं।

आपकी दूसरी खुराक के दो सप्ताह बाद, यह एस्ट्राजेनेका के लिए 60% और फाइजर के लिए 88% तक बढ़ जाता है। यह डेटा हल्के से लेकर गंभीर तक किसी भी प्रकार के कोविड-19 के लिए है। लेकिन जब आप देखते हैं कि टीके अस्पताल में भर्ती होने वाली गंभीर बीमारी होने के जोखिम को कितना कम करते हैं, तो दोनों के लिए कवरेज अधिक है। फाइजर और एस्ट्राजेनेका के टीके डेल्टा प्रकार के अस्पताल में भर्ती होने से रोकने में 96% और 92% प्रभावी (क्रमशः) हैं।

टीकाकरण के बाद भी कुछ लोगों को कोविड क्यों होता है?
टीके कोई जादू की छड़ी नहीं हैं। वे उस वायरस या रोगज़नक़ को नहीं मारते जिसे वे लक्षित करते हैं। बल्कि, टीके एंटीबॉडी बनाने के लिए किसी व्यक्ति की प्रतिरक्षा प्रणाली को उत्तेजित करते हैं। ये एंटीबॉडी टीके के लिए वायरस या रोगज़नक़ के खिलाफ विशिष्ट हैं और शरीर को संक्रमण से लड़ने की ताकत देते हैं इससे पहले कि वह पकड़ में आए और गंभीर बीमारी का कारण बने।

हालांकि, कुछ लोगों में टीके के बाद भी पर्याप्त मजबूत प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया विकसित नहीं हो पाती और वायरस के संपर्क में आने पर भी वे कोविड-19 से संक्रमित के लिए अतिसंवेदनशील हो सकते हैं।

एक व्यक्ति टीके के प्रति कैसे प्रतिक्रिया करता है, यह हमारी उम्र, लिंग, दवाएं, आहार, व्यायाम, स्वास्थ्य और तनाव के स्तर सहित कई कारकों से प्रभावित होता है। यह बताना आसान नहीं है कि किसने वैक्सीन के प्रति पर्याप्त मजबूत प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया विकसित नहीं की है। टीके के प्रति किसी व्यक्ति की प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को मापना आसान नहीं है और इसके लिए विस्तृत प्रयोगशाला परीक्षणों की आवश्यकता होती है। और जबकि टीके से होने वाले दुष्प्रभाव से संकेत मिलता है कि आपको प्रतिक्रिया मिल रही है, लक्षणों की अनुपस्थिति का मतलब यह नहीं है कि आप कमजोर प्रतिक्रिया कर रहे हैं।

प्रतिरक्षा प्रणाली को टीकों के प्रति प्रतिक्रिया करने और एंटीबॉडी का उत्पादन करने में भी समय लगता है। अधिकांश दो-शॉट टीकों के लिए, पहली खुराक के बाद एंटीबॉडी का स्तर बढ़ता है और फिर कम हो जाता है। इन एंटीबॉडी को दूसरे के बाद बढ़ाया जाता है। लेकिन जब तक आपके एंटीबॉडी का स्तर दूसरी खुराक के बाद नहीं बढ़ता, तब तक आप बेहतर तरीके से कवर नहीं होते हैं।

टीका लगने के बाद कोविड संक्रमण कैसा होता है? 
कोविड-19 का कारण बनने वाले सार्स-कोव-2 का पता लगाने के लिए हम जिस पीसीआर परीक्षण का उपयोग करते हैं, वह बहुत संवेदनशील होता है और आपके सिस्टम में वायरस का स्तर बहुत कम होने पर भी आपको सार्स-कोव-2 से संक्रमित दिखा सकता है, लेकिन फिर भी उसमें कोविड-19 के लक्षण नहीं हैं। टीका लगवाने के बावजूद जिन लोगों में कोविड-19 के लक्षण पाए गए हैं उनमें ज्यादातर लोगों में कम अवधि के लिए बीमारी के हलके लक्षण देखे गए हैं।

इस बात की संभावना हमेशा बनी रहती है कि टीका लगाया हुआ व्यक्ति स्वयं बिना किसी लक्षण के एक गैर-टीकाकृत व्यक्ति को संक्रमित कर सकता है। लेकिन जिन लोगों को टीका लगाया गया है, उनमें कोविड-19 विकसित होने की संभावना बिना टीका लगवाए लोगों की तुलना में कम होगी, जिसका अर्थ है कि उनके वायरस फैलाने की संभावना कम है।

एक अध्ययन में अनुमान लगाया गया है कि जिन लोगों को फाइजर या एस्ट्राजेनेका का टीका लगाया गया था, उन लोगों की बिना टीकाकरण वाले लोगों की तुलना में इसे पारित करने की संभावना 50% कम थी। यदि परिवार के दोनों सदस्यों को टीका लगाया जाता है तो यह संचरण और कम हो जाएगा। लेकिन अगर आपको टीका नहीं लगाया गया है और आप कोविड-19 से संक्रमित हैं, तो आपके वायरस को फैलाने की अधिक संभावना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *