बिहार के सभी जिलों में अगले 4 दिन हल्की बारिश होने का अनुमान, 15 जुलाई के बाद तेज बारिश की संभावना

मानसून सत्र में बारिश का इंतजार है। बारिश होने के बजाए उमस भरी गर्मी हो रही है। ऐसा बंगाल की खाड़ी से बिहार आने वाली हवाओं में नमी की कमी के कारण हो रहा है। इस कारण से मौसम विभाग ने बिहार के 38 जिलों में 15 जुलाई तक हल्की बारिश की संभावना जताई है। मौसम विभाग का कहना है कि राज्य में कुछ ही स्थानों पर मध्यम से तेज बारिश होगी, बाकी स्थानों पर ऐसे ही मौसम सामान्य बना रहेगा। 15 जुलाई के बाद मौसम की गतिविधियां कुछ परिवर्तित होने की संभावना है।

राज्य के 38 जिलों में ब्लू और ग्रीन अलर्ट

मौसम विभाग ने राज्य के 38 जिलों में ब्लू और ग्रीन अलर्ट किया है। इसमें 15 जुलाई हल्की बारिश की संभावना है। मौसम विभाग के मुताबिक 11 और 12 जुलाई को ग्रीन अलर्ट है। जबकि 13 और 14 जुलाई को ब्लू अलर्ट है। ग्रीन अलर्ट में कुछ स्थानों पर और ब्लू अलर्ट में मौसम सामान्य रहेगा। इस दौरान आसमान में बादल छाए रहेंगे और 2 से 5 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलेंगी। हल्की धूप और नमी के कारण उमस भरी गर्मी बढ़ेगी।

ऐसे बन रहा है मौसमी सिस्टम

मौसम विभाग के मुताबिक, एक ट्रफ रेखा हरियाणा और पंजाब से होते हुए उत्तर बिहार झारखंड ओडिशा और असम तक जा रही है। साइक्लोन सर्किल का परिक्षेत्र पूर्वी उत्तर प्रदेश बिहार के तटवर्ती जिले से होते हुए झारखंड पश्चिम बंगाल और बंगाल की खाड़ी तक बना हुआ है। इसकी वजह से बिहार के उत्तरी भागों में कुछ स्थानों पर मध्यम दर्जे की बारिश की संभावना है। जबकि मानसूनी सत्र में दक्षिण बिहार में मानसून सामान्य रहेगा। इस दौरान गरज के साथ वज्रपात व हल्की बारिश होने की संभावनाएं हैं।

15 जुलाई के बाद बदलेगा मौसम का मिजाज
मानसून में बारिश नहीं होने का कारण बंगाल की खाड़ी से बिहार आने वाली तीव्रता में कमी है। इस कारण से निम्न हवा का दबाव दोलन कर रहा है, जिससे पूर्वानुमान के विपरीत कई जगह पर बारिश तो कई जगह मौसम शुष्क रह रहा है। हालांकि, मौसम विभाग के मुताबिक नमी धूप की वजह से उमस बढ़ रही है। ऐसे में संवाहनीय बादल का निर्माण हो रहा है जो आने वाले समय में बारिश की स्थिति पैदा करेगा। संभावना है कि 15 जुलाई के बाद मौसमी सिस्टम कुछ एक्टिव हाेगा जिससे बारिश की संभावनाएं बढ़ेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *